मुखपृष्ठ>परिचय>पुस्तकें>बाल साहित्य

बाल मन और किशोर मन में प्रवेश करने में अशोक जी सिद्धहस्त हैं। उन्होंने बच्चों के लिए उपन्यास लिखे। कविताएं लिखीं। नाटक लिखे। बच्चों के मनोविज्ञान को समझ कर,. उनसे दोस्ती बढ़ाकर और उनकी भाषा में बतियाते हुए।