मुखपृष्ठ>
  • चौं रे चम्पू
  • >
  • तन डोले न मन डोले तो ईमान डोले
  • तन डोले न मन डोले तो ईमान डोले

     

     

    —चौं रे चम्‍पू! तेरौ लल्ला तौ आस्ट्रेलिया में ई ऐ न?

    —उसे गए हुए तो दस साल हो गए चचा! दो साल के लिए पढ़ने भेजा था, काम मिला, नाम मिला, दाम मिला तो वहीं जम गया। इंटरनेट के ज़रिए रोज़ाना ही बात होती है। दूरी का अहसास नहीं होता। इधर, शुभचिंतकों के बड़े फोन आ रहे हैं। बेटा वहां ठीक तो है?

    —हां बता, काई परेसानी में तौ नायं?

    —नहीं, किसी परेशानी में नहीं है। कहता है कि मीडिया ने पूरे ऑस्ट्रेलिया को विलेन बना दिया है, जबकि ऐसा है नहीं। चचा, मैं पहली बार आस्ट्रेलिया नाइंटी एट में गया था। वहां मिले हिन्दी-उर्दू-संस्कृत पढ़ाने वाले प्रो. हाशिम दुर्रानी, डॉ. पीटर ओल्डमैडो और डॉ. बार्ज। भव्य इमारत, भव्य लोग। अगले साल पुत्र को भेज दिया। चार सैमिस्टर की पढ़ाई थी। हर सैमिस्टर के चार लाख रुपए देने थे। पहली किस्त मैंने प्रोविडेंट फण्ड से निकाल कर दी और उसे आश्वस्त भी कर दिया कि अगली का जुगाड़ भी लगाएंगे बेटा। सात महीने बीत गए उसने पैसा नहीं मांगा तो चिंता हुई। हड़बड़ा कर फोन मिलाया। उसने हंसते हुए बताया कि उसने पढ़ाई के दौरान ख़ाली वक्त में काम करके इतना पैसा कमा लिया है कि अब फण्ड से पैसा नहीं निकालना पड़ेगा। खुशी भी हुई और स्वावलंबी होते हुए बालक को अब हमारी सहायता की ज़रूरत नहीं है, इस अहसास से कुछ मलाल-सा भी हुआ। भई हम किसके लिए कमा रहे हैं? दिन-रात काम क्यों करता है? पढ़ाई कर ना, जिसके लिए भेजा है। चचा, उस देश में मेहनत और प्रतिभा की कद्र होती है। गर्मियों की छुट्टियों में अगले साल हम चले गए। सिडनी विश्वविद्यालय के भारतीय भाषा विभाग ने हमें विज़िटिंग स्कॉलर बना दिया। वहां के छात्रों को पढ़ाने का मौका मिला। कई साल मिला। प्रो. हाशिम दुर्रानी ने आपके इस चम्पू की कविताओं को पाठ्यक्रम में जोड़ा। लाइब्रेरी में निर्बाध प्रवेश के लिए इलैक्टॉनिक कार्ड बन गया। आनंद आया। वहां के विश्वविद्यालय पैसा लेते ज़रूर थे पर ज्ञान भी देते थे, लेकिन इन पिछले दस वर्षों में शिक्षा ऑस्ट्रेलिया में एक कमाऊ उद्योग बन गया। विश्वविद्यालय सब्ज़-बाग़ दिखा कर छात्रों को बुलाने लगे।

    —मैल्बर्न में का भयौ?

    —वही तो बता रहा हूं चचा। पैसा आने लगा, तो वहां के विश्वविद्यालय सदाशयता खोने लगे। हिन्दी-उर्दू पढ़ाने से पहले भी उन्हें पैसा नहीं मिलता था, पर चलाते थे। पिछले साल सिडनी विश्वविद्यालय के प्रशासन ने कह दिया कि भारतीय समाज के लोग मिलकर अगर इतने हज़ार डॉलर नहीं देते तो हम ये विभाग बन्द कर देंगे। भारतीय लोग भाषा के नाम पर उतना पैसा दे नहीं पाए, विभाग हो गया बन्द। उन्हें तो चाहिए थी माल-मलाई। फोकट का दूध बांटने के लिए क्यों चढाते कढ़ाई! अब लगभग एक लाख भारतीय विद्यार्थी चढ़ावा चढ़ाते हैं और अपने माता-पिता पर बोझ न बन जाएं, इस नाते रात-रात भर काम करते हैं। हॉस्टिल की सुविधाएं हैं नहीं। विश्वविद्यालय के पास मिलते हैं महंगे मकान, इसलिए दूर-दराज के उपनगरों में कम किराए पर रहते हैं। काम के बाद मौज-मस्ती और पार्टी-बाज़ी वहां के नौजवानों का आम सांस्कृतिक शगल है। हमारे मेधावी-मेहनती छात्र अपनी आर्थिक सीमाओं के रहते, प्राय: उससे दूर रहते हैं। चचा, वहां के स्थानीय बेरोज़गारों को ‘डोल’ के नाम पर हर हफ़्ते डेढ़ सौ दो सौ डॉलर का बेरोज़गारी भत्ता मिलता है। कल्याणकारी राज्य के लिए ‘डोल’ एक स्वस्थ परम्परा है। यह डोल उदरपूर्ति के लिए तो काफ़ी है लेकिन मदकची अपराधियों की मौज-मस्ती नहीं हो पाती उसमें। उतने से ‘डोल’ से तन डोले न मन डोले, ईमान डोले। भारतीय एवं तीसरी दुनिया के छात्र बन जाते हैं इन रुग्ण डोलची और मनडोलची अपराधियों के कोमल शिकार, जो छोटी-मोटी घटनाओं की शिकायत तक नहीं करते। देर रात में काम करने के बाद, अपनी उस दिन की कमाई, लैपटॉप और मोबाइल के साथ जब ये रेल या बस से उतर कर सुनसान सड़कों पर पैदल चल रहे होते हैं तब निकल आते हैं अपराधियों के पंजे। अपराध का अस्लवाद नासमझी के कारण धीरे-धीरे नस्लवाद का रूप अख्तियार करने लगता है। ऑस्ट्रेलिया हमारा मित्र देश है, यदि वह विश्वविद्यालयों की धन-लोलुपता पर और अपने अपराधियों पर अंकुश नहीं लगाएगा तो……..।

    —तौ का?

    —मैं अपने परिचय में गर्व से लिखता हूं ‘पूर्व विज़िटिंग प्रोफ़ेसर, सिडनी यूनिवर्सिटी’, हटा दूंगा चचा।

     

    wonderful comments!