मुखपृष्ठ>
  • खिली बत्तीसी
  • >
  • वृक्ष हुए शंकर जी कैसे
  • वृक्ष हुए शंकर जी कैसे

    वृक्ष हुए शंकर जी कैसे

    (यह सही समय है जब वृक्षारोपण होना चाहिए)

     

    धरती सुखी रहे

    इस नाते

    किया जिन्होंने

    विष का पान,

    बुरा चाहने वालों को भी

    देते आए

    जीवन दान।

    ऐसे कौन देवता अपने

    प्रियवर

    ज़रा बताओ तो,

    श्रीमान जी बोले—

    वे महादेव शंकर भगवान!

     

    शंकर के समान ही

    करते

    वृक्षों का हम जन

    पूजन,

    वृक्ष हुए शंकर जी कैसे

    बतलाएं इसका रीज़न?

    धरती की

    सतहों में रहतीं

    अनगिन गैसें

    ज़हरीली,

    उन गैसों को पीकर देते

    जीवनदायी आक्सीजन।

     

    शंकर जैसे जटाजूट

    ये भी

    अपने तन पर धारें,

    जड़-पत्ती से

    दवा सौंपकर

    रोग शत्रु को संहारें,

    तुमसे नहीं चाहते

    कुछ भी

    सहनशीलता इतनी है,

    फल देते हैं उन्हें,

    जो कि

    इनके ऊपर पत्थर मारें।

    wonderful comments!

    प्रातिक्रिया दे

    Receive news updates via email from this site