मुखपृष्ठ>
  • खिली बत्तीसी
  • >
  • राना था गेहूं का दाना
  • राना था गेहूं का दाना

    राना था गेहूं का दाना

    (मस्तिष्क की मशीन में अजब-गजब गड़बड़ियां हो जाती हैं कभी-कभी)

     

     

    हमारे एक दोस्त थे— रामलाल राना,

    ख़ुद को समझने लगे गेहूं का दाना।

     

    जहां कहीं मुर्गा दिखे, डर जाएं—

    ये तो हमें खा लेगा, जीते जी मर जाएं।

    जहां कहीं बोरा दिखे घबराएं, बिदक जाएं—

    कोई इसमें हमें भर लेगा,

    बोरा बंद कर देगा।

    और आटे की चक्की पड़ जाए दिखाई,

    वहां से तो भाग लेते थे राना भाई,

    यहां हो जाएगी हमारी पिसाई।

     

    डॉक्टर ने समझाया— डियर राना!

    तुम्हारे दो कान हैं दो आंख हैं

    दो पैर हैं दो हाथ हैं चलते हो बोलते हो

    कैसे हो सकते हो गेहूं का दाना?

    पर राना नहीं माना।

     

    गर्मी गई, शीत गया,

    एक वर्ष बीत गया।

     

    एक दिन राना डॉक्टर से बोला—

    चलता हूं बोलता हूं सुनता हूं तकता हूं

    गेहूं का दाना कैसे हो सकता हूं?

    डॉक्टर खा गया सनाका,

    संदेह से राना की आंखों में झांका।

    दृष्टि थी मर्मभेदी,

    पर भरोसा हो गया तो छुट्टी दे दी।

     

    आध घंटे बाद ही राना फिर आया,

    हांफता हुआ और घबराया घबराया।

    डॉक्टर ने पूछा— क्या हुआ भई राना!

    क्या फिर से हो गए गेहूं का दाना?

     

    —नहीं, नहीं, मैं बेहद परेशान हूं,

    मैं समझ गया कि इंसान हूं,

    मेरे पास आदमी की काया है,

    पर अभी यह तथ्य

    मुर्गे की समझ में नहीं आया है।

    wonderful comments!

    1. Archana Sharma अगस्त 29, 2012 at 7:49 अपराह्न

      ye bahut achchi hai

    2. Archana Sharma अगस्त 29, 2012 at 7:49 अपराह्न

      ye bahut achchi hai

    3. Archana Sharma अगस्त 29, 2012 at 7:49 अपराह्न

      ye bahut achchi hai

    4. yogesh sharma अगस्त 29, 2012 at 11:55 अपराह्न

      sir ji bahut badhiya maza aa gaya Ramlal Rana ji gehun ke chakkar se nikle aur murge ke chakkar me ulajh gaye :)

    5. Purushottam Sharma अगस्त 30, 2012 at 12:09 पूर्वाह्न

      Chakradhar ji aapne kya chakra chalaya hai. Ramlal Rana ko gehun ka dana banaya hai..........wah

    6. Purushottam Sharma अगस्त 30, 2012 at 12:09 पूर्वाह्न

      Chakradhar ji aapne kya chakra chalaya hai. Ramlal Rana ko gehun ka dana banaya hai..........wah

    7. Purushottam Sharma अगस्त 30, 2012 at 12:09 पूर्वाह्न

      Chakradhar ji aapne kya chakra chalaya hai. Ramlal Rana ko gehun ka dana banaya hai..........wah

    8. Vijay Tyagi सितम्बर 9, 2012 at 1:52 पूर्वाह्न

      GURU JI PRANAAM, RANAJI MERE PAAS BHI AAYE THE VAASTAV ME BADE GHABRAAYE THE BOLE KAL SUBHA MURGA JAB BAANG DEGA MUJHE TO APNI CHAUNCH ME TAANG DEGA IS WAQT MERI NAZRON ME EK HAI BHAGWAAN TUMHARA DOST TELIVISION WALA "SHAKTIMAAN"(MUKESH KHANNA) ARE TYAGI USKO BOLO UDKAR AASMAAN KI RAAH PAKAD LE KAL KI SUBHA NAA HO SOORAJ KO BAAHON ME JAKAD LE....

    प्रातिक्रिया दे

    Receive news updates via email from this site