मुखपृष्ठ>
  • खिली बत्तीसी
  • >
  • पियक्कड़ जी और डॉक्टर
  • पियक्कड़ जी और डॉक्टर

    पियक्कड़ जी और डॉक्टर

    (समझाने के लिए कभी-कभी समानांतर कुतर्क सहारा देता है)

     

    पियक्कड़ जी मरने पर थे उतारू,

    इसलिए डॉक्टर ने बन्द कर दी दारू।

    और जब तलब के कारण मरने लगे,

    तो डॉक्टर से तर्क करने लगे।

     

    —अगर मैं अंगूर का रस निकालूं

    उसे अपने प्याले में डालूं

    और पीने का लूं डिसीजन,

    तो डॉक्टर साब ऐनी ऑब्जैक्शन?

     

    डॉक्टर बोले— नहीं, नहीं बिलकुल नहीं!

     

    —अगर उसमें थोड़ा सा पानी डालूं

    और चम्मच से चला लूं?

     

    —नहीं नहीं फिर भी नहीं!

     

    —अगर उसका ख़मीर उठा लूं,

    और गटागट चढ़ा लूं?

    डॉक्टर महाशय थे पूरे अक्खड़,

    बोले— मिस्टर पियक्कड़!

    अगर मैं आव देखूं न ताव देखूं,

    और मुट्ठी भर रेत आपके ऊपर फेंकू,

    तो रेत शरीर पर फैल जाएगी,

    लेकिन क्या चोट आएगी?

     

    —नहीं नहीं बिल्कुल नहीं।

     

    —अगर उसमें थोड़ा सा पानी डालूं

    और मिलाकर मारूं?

     

    —नहीं नहीं फिर भी नहीं!

     

    —अगर उस गीली मिट्टी को पका लूं,

    और ईंट बना लूं?

     

    पियक्कड़ बोले— कृपा कीजिए,

    नहीं पिऊंगा रहने दीजिए।

    wonderful comments!

    1. Archana Sharma सितम्बर 12, 2012 at 9:55 अपराह्न

      waah waah

    2. Archana Sharma सितम्बर 12, 2012 at 9:55 अपराह्न

      waah waah

    3. Archana Sharma सितम्बर 12, 2012 at 9:55 अपराह्न

      waah waah

    4. gurmeet singh kalsi सितम्बर 13, 2012 at 7:32 पूर्वाह्न

      wah wah good. tussi chaa gaye.

    5. arun agarwal सितम्बर 13, 2012 at 8:56 पूर्वाह्न

      what a logic sir!

    6. Anju Juneja सितम्बर 13, 2012 at 11:00 पूर्वाह्न

      पियक्कड़ जी को समझाने की डॉक्टर ने कोशिश जी तोड़ की बोतल भरी शराब की ईंट से तोड़ दी कभी कभी समझाने को दूसरे के लेवल पे आना पड़ता है बेटे को घोटाले का मतलब समझाने को उसके टिफिन से चोकोलेट चुराना पड़ता है

    7. शेलेन्द्र सितम्बर 17, 2012 at 7:30 अपराह्न

      आपका जवाब नहीं !!!

    8. Pramod Kumar सितम्बर 17, 2012 at 7:37 अपराह्न

      पियक्कड़ महोदय कौन से कम थे तपाक से बोले डॉक्टर साहेब जो काम मैं बोतलों पे बोतले चढ़ा कर करता वो आप पहले हि करने लग गए हो कही आप ने भी पी ली है क्या खुद पीकर आप मुझे कैसे रोकोगे? डॉ. प्रमोद कुमार

    9. sudesh solanki सितम्बर 17, 2012 at 10:10 अपराह्न

      wah wah maan gaye sir apko gr8

    10. VivEk SiNgh ToMar सितम्बर 17, 2012 at 11:27 अपराह्न

      Chakradhar ji always rock !

    11. VivEk SiNgh ToMar सितम्बर 17, 2012 at 11:27 अपराह्न

      Chakradhar ji always rock !

    12. VivEk SiNgh ToMar सितम्बर 17, 2012 at 11:27 अपराह्न

      Chakradhar ji always rock !

    13. Rajendra Kandpal सितम्बर 17, 2012 at 11:38 अपराह्न

      अशोक चक्रधर जब भी हँसाते हैं पूरे कुतर्क के साथ हँसाते हैं।

    14. राजेंद्र कांडपाल सितम्बर 17, 2012 at 11:38 अपराह्न

      अशोक चक्रधर जब भी हँसाते हैं पूरे कुतर्क के साथ हँसाते हैं।

    15. राजेंद्र कांडपाल सितम्बर 17, 2012 at 11:38 अपराह्न

      अशोक चक्रधर जब भी हँसाते हैं पूरे कुतर्क के साथ हँसाते हैं।

    16. Sushil Gangwar सितम्बर 18, 2012 at 12:02 पूर्वाह्न

      kya baat hai .

    17. Sushil Gangwar सितम्बर 18, 2012 at 12:02 पूर्वाह्न

      kya baat hai .

    18. Sushil Gangwar सितम्बर 18, 2012 at 12:02 पूर्वाह्न

      kya baat hai .

    19. Madhu Sangal सितम्बर 18, 2012 at 12:05 पूर्वाह्न

      bahut khubbbbb.

    20. Madhu Sangal सितम्बर 18, 2012 at 12:05 पूर्वाह्न

      bahut khubbbbb.

    21. Madhu Sangal सितम्बर 18, 2012 at 12:05 पूर्वाह्न

      bahut khubbbbb.

    22. Shrikant Dubey सितम्बर 18, 2012 at 12:28 पूर्वाह्न

      hmmm

    23. Shrikant Dubey सितम्बर 18, 2012 at 12:28 पूर्वाह्न

      hmmm

    24. Shrikant Dubey सितम्बर 18, 2012 at 12:28 पूर्वाह्न

      hmmm

    25. Tika Prasad सितम्बर 18, 2012 at 12:42 पूर्वाह्न

      nice and good

    26. Tika Pd Bhandari सितम्बर 18, 2012 at 12:42 पूर्वाह्न

      nice and good

    27. Tika Pd Bhandari सितम्बर 18, 2012 at 12:42 पूर्वाह्न

      nice and good

    28. Deepak Porwal सितम्बर 18, 2012 at 12:43 पूर्वाह्न

      nice...................1

    29. Deepak Porwal सितम्बर 18, 2012 at 12:43 पूर्वाह्न

      nice...................1

    30. Deepak Porwal सितम्बर 18, 2012 at 12:43 पूर्वाह्न

      nice...................1

    31. Niril Jain सितम्बर 18, 2012 at 12:57 पूर्वाह्न

      waah waah kya baat he

    32. Niril Jain सितम्बर 18, 2012 at 12:57 पूर्वाह्न

      waah waah kya baat he

    33. Niril Jain सितम्बर 18, 2012 at 12:57 पूर्वाह्न

      waah waah kya baat he

    34. Rajinder Prabhakar सितम्बर 18, 2012 at 12:58 पूर्वाह्न

      Love to drink it.

    35. Rajinder Prabhakar सितम्बर 18, 2012 at 12:58 पूर्वाह्न

      Love to drink it.

    36. Rajinder Prabhakar सितम्बर 18, 2012 at 12:58 पूर्वाह्न

      Love to drink it.

    37. Shubham Rai सितम्बर 18, 2012 at 1:10 पूर्वाह्न

      http://www.facebook.com/pages/If-I-KnOw-WhAt-LoVe-Is-It-Is-BeCaUse-Of-YoU-/264406890323559?ref=hl

    38. Shubham Rai सितम्बर 18, 2012 at 1:10 पूर्वाह्न

      http://www.facebook.com/pages/If-I-KnOw-WhAt-LoVe-Is-It-Is-BeCaUse-Of-YoU-/264406890323559?ref=hl

    39. Shubham Rai सितम्बर 18, 2012 at 1:10 पूर्वाह्न

      http://www.facebook.com/pages/If-I-KnOw-WhAt-LoVe-Is-It-Is-BeCaUse-Of-YoU-/264406890323559?ref=hl

    40. Krishna Kumar Mishra सितम्बर 18, 2012 at 1:43 पूर्वाह्न

      great.....

    41. Krishna Kumar Mishra सितम्बर 18, 2012 at 1:43 पूर्वाह्न

      great.....

    42. Krishna Kumar Mishra सितम्बर 18, 2012 at 1:43 पूर्वाह्न

      great.....

    43. Rajendra Nigam सितम्बर 18, 2012 at 1:56 पूर्वाह्न

      log pata puchhte hain-par bulate nahi hain

    44. राजेन्द्र निगम राज सितम्बर 18, 2012 at 1:56 पूर्वाह्न

      log pata puchhte hain-par bulate nahi hain

    45. राजेन्द्र निगम राज सितम्बर 18, 2012 at 1:56 पूर्वाह्न

      log pata puchhte hain-par bulate nahi hain

    46. Sudesh Solanki सितम्बर 18, 2012 at 3:41 पूर्वाह्न

      haahahahaa gr8

    47. Sudesh Solanki सितम्बर 18, 2012 at 3:41 पूर्वाह्न

      haahahahaa gr8

    48. Sudesh Solanki सितम्बर 18, 2012 at 3:41 पूर्वाह्न

      haahahahaa gr8

    49. सचिन जनवरी 7, 2013 at 11:21 पूर्वाह्न

      कुतर्कों पर आपके व्यंग्य बाण बेमिसाल हें। बहुत खूब .....

    प्रातिक्रिया दे

    Receive news updates via email from this site