अशोक चक्रधर > Blog > खिली बत्तीसी > पर्वतों के पार टीन की एक छत

पर्वतों के पार टीन की एक छत

20110504 Parvato ke paar(ग्लोबल गांव में मनुष्यता के विस्तार का एक परिदृश्य)

सामने

टीन की एक छत,

उसके आगे

एक नीचा पर्वत।

 

उसके आगे

थोड़ा बड़ा पहाड़

उसके आगे

थोड़ा और बड़ा पहाड़।

 

चलो देखते हैं

क्या है

उस बड़े पहाड़ के आगे?

 

एक पैर रखा

टीन की छत पर

दूसरा

नीचे पर्वत पर

अब एक छलांग लगाते हैं

बड़े पहाड़ पर,

एक छलांग और

और बड़े पहाड़ पर।

 

अब

देखते क्या हो

बेहूदो!

नीचे कूदो!

 

रुको! रुको!

रुको मेरे यार!

ये तो

पता चल ही गया

कि क्या है

पर्वतों के उस पार।

 

धत!

वही

टीन की एक छत।


Comments

comments

3 Comments

  1. sunita patidar |

    bahut sunder.

  2. sunita patidar |

    bahut sunder.G

  3. thoda smjh aya thoda reh gya

Leave a Reply