अशोक चक्रधर > Blog > खिली बत्तीसी > न मर जाना चुटकी में

न मर जाना चुटकी में

na mar jaanaa chutakee mein

 

 

 

 

 

 

 

 

न मर जाना चुटकी में

(तम्बाकू सेवियों के साथ एक ज़हरीला संवाद)

 

 

सिगरट में गुण बहुत हैं

सदा राखिए संग,

चार यार मिल जायं तो

करवाती सत्संग।

करवा दे सत्संग

धुंए की महिमा न्यारी,

तुम्हें मिल रहे मज़े

ग़ैर को है ह्त्यारी।

बेकसूर भी शीघ्र मिलें

तुमको मरघट में,

ऐसी प्रबल पुकार भरी है

इस सिगरट में।

 

ऐसीटिक ऐसिड मिले

कैडमियम, ब्यूटेन,

हैक्सामाइन, निकोटिन

आर्सेनिक, मीथेन।

आर्सेनिक, मीथेन

कार्बन का ऑक्साइड,

स्टीरिक ऐसिड, मीथेनल

टोल्यूनाइड।

ले अमोनिया, फूंक कलेजा

जल्दी कैसी?

सभी धीम्र विष धूम्र

धवल सिगरट है ऐसी।

 

चुटकी में सुंघनी, हुलस

नस्य, नास्य, नसवार,

धूम्र-दंडिका, गुड़गुड़ी

बीड़ी, चुरट, सिगार।

बीड़ी, चुरट, सिगार

चिलम, हुक्का, सिगरटिया,

ताम्बूल, तम्बाकू,

झन्नौटी, झटपटिया।

कश सुट्टा संग,

गुटका गटको बेखुटकी में,

धीरे-धीरे मरो,

न मर जाना चुटकी में।


Comments

comments

Leave a Reply