अशोक चक्रधर > Blog > खिली बत्तीसी > मोबाइल नै गजब करि डारे बहना

मोबाइल नै गजब करि डारे बहना

Mobaail nai gajab kari daare bahanaa

 

 

 

 

 

 

 

 

 

मोबाइल नै गजब करि डारे बहना

(एक ब्रजबाला ने दूसरी ब्रजबाला को मोबाइल पर मोबाइल की महत्ता बताई)

मोबाइल नै

गजब करि डारे बहना।

मोबाइल नै।

सैंया गए परदेस,

भेजें खूब संदेस,

एसएमएस मिले मोय प्यारे-प्यारे बहना।

खूब सारे फोटू भेजे,

मैंने कलेजे सहेजे।

देखे देस परदेस के नजारे बहना।

फोन रेडियो सुनावै,

फोन बीडियो बनावै।

पल भर में पठावै पी के द्वारे बहना।

मेरौ नैक सौ ये फोन,

बदलूं रोज रिंग टोन।

गाने शीला मुन्नी वारे कजरारे बहना।

पइसा बैंक में जो आए,

याई फोन ते ई आए,

मैंने झट्ट एटीएम ते निकारे बहना।

मैं जो पूछूं है कहां पै?

सुनि थर थर कांपै!

बोलै अंटसंट झूठ के सहारे बहना।

फोन पकरै ये झूठ,

ये सिपइया रंगरूट।

मेरे सैंया सौ-सौ बार मोसे हारे बहना।

सैंया फोन ना उठावै,

मोय कछू ना सुहावै।

मोय दीख जायं दिन में ई तारे बहना।

मोबाइल नै

गजब करि डारे बहना।

मोबाइल नै।


Comments

comments

Leave a Reply