अशोक चक्रधर > Blog > खिली बत्तीसी > क्या क्या हो और क्या न हो

क्या क्या हो और क्या न हो

kyaa-kyaa-ho-aur-kyaa-na-ho

 

 

 

 

 

 

 

 

 

क्या क्या हो और क्या न हो!

(भारत में प्रसव के दौरान कितनी महिलाएं मरती हैं, आंकड़े दिल दहला देंगे।)

 

ध्यान दो! ध्यान दो!!

क्या क्या हो और क्या न हो!!!

पांव ज्यों ही भारी हुए

चैक-अप कराना होगा,

दाई चाची जैसी

अनुभवी स्वास्थ्य सेविका को,

फौरन दिखाना होगा

वज़न कराना होगा।

कमी आयरन की

शरीर में अगर हो तो,

गोलियां खिलानी होंगी

जाके दिखलाना होगा।

वज़न अगर गर्भिणी का बढ़ता हो नहीं,

खाना कैसा खाय

यह राज़ समझाना होगा।

व्यसन तम्बाकू या शराब का

चलेगा नहीं,

बालक की ख़ातिर,

इन्हें न अपनाना होगा।

जाना होगा अस्पताल,

दरद हो ज्यादा काल,

परेशानी जो भी आए,

उसको भगाना होगा।

बैठे रहे घर में दरद उठते ही रहे,

घंटे आठ दस और बारह गुज़ारे हैं।

गर्भकाल में ही यदि

ख़ून जाय असमय,

तेज़ है बुख़ार

पर आप उसे टारे हैं।

ग़लत-सलत दे दवाई,

यूं ही बैठ गए,

मति न लगाई, हुए ऐसे मतवारे हैं।

कोई दुर्घटना न घट जाय हरगिज़,

कोई अनहोनी नहीं उस दरम्यान हो।

ध्यान दो! ध्यान दो!!

क्या क्या हो और क्या न हो!!!


Comments

comments

Leave a Reply