अशोक चक्रधर > Blog > खिली बत्तीसी > कांकरिया मत मारो लंगर!

कांकरिया मत मारो लंगर!

kankariyaa mat maaro langar

 

 

 

 

 

 

 

 

कांकरिया मत मारो लंगर!

(गठबंधन की डगर तुम्हारी भी तारनहार है और हमारी भी)

 

जोड़-तोड़ से जोड़ी-तोड़ी,

बंदिश तोड़ी राग मरोड़ी—

गठबंधन की थारी डगर!

कांकरिया मत मारो लंगर!!

सुन पावैं मोरे चट्टे-बट्टे,

दिल में छिपाए चाकू-कट्टे,

दौरे-दौरे इत आवैं मगर।

कांकरिया मत मारो लंगर!!

थैली जननी, थैली मैया,

थैली में ही होती भैया!

सिक्के से सिक्के की रगर।

कांकरिया मत मारो लंगर!!

इस चुनाव ने आंखें खोलीं,

आसन खिसके, कुर्सी डोलीं।

सिर धुनि-धुनि पछतावैं सगर।

कांकरिया मत मारो लंगर!!

दुश्मन कौन, दोस्त भी कैसा,

गठबंधन समरस है ऐसा

क्या तेरा क्या मेरा नगर।

कांकरिया मत मारो लंगर!!

अपना फुल तेवर दिखलाना,

होय न पर टूटन का आना,

झुक जाना, मत लेना झगर।

कांकरिया मत मारो लंगर!!

मतभेदों का भेद न रक्खें,

सत्ता का सुख मिलकर चक्खें,

कुर्सी के गुन गावैं अगर।

कांकरिया मत मारो लंगर!!

जोड़-तोड़ से जोड़ी-तोड़ी,

बंदिश तोड़ी राग मरोड़ी—

गठबंधन की म्हारी डगर!

कांकरिया मत मारो लंगर!!

 


Comments

comments

Leave a Reply