अशोक चक्रधर > Blog > खिली बत्तीसी > गुनह करेंगे पुन: करेंगे

गुनह करेंगे पुन: करेंगे

gunaha karenge punha karenge

 

 

 

 

 

 

 

 

गुनह करेंगे पुन: करेंगे

(कटिबद्ध गुनहगार जिरह नहीं करते)

 

गुनह करेंगे

पुन: करेंगे।

 

वजह नहीं

बेवजह करेंगे।

 

कल से ही लो

कलह करेंगे।

 

जज़्बातों को

जिबह करेंगे।

 

निर्लज्जों से

निबह करेंगे।

 

सुलगाने को

सुलह करेंगे।

 

हम ज़ालिम क्यों

जिरह करेंगे?

 

संबंधों में

गिरह करेंगे।

 

रस विशेष में

विरह करेंगे।

 

जो हो, अपनी

तरह करेंगे।

 

रात में चूके

सुबह करेंगे।

 

गुनह करेंगे

गुनह करेंगे

 

पुन: करेंगे।

पुन: करेंगे।


Comments

comments

Leave a Reply