अशोक चक्रधर > Blog > खिली बत्तीसी > चार उंगली एक अंगूठा बराबर पांच

चार उंगली एक अंगूठा बराबर पांच

20110124 Char ungali ek angutha barabar paanchएक अकेली उंगली बिचारी

कितना ही करे प्रयास,

उठा न पाएगी बोझा ज़रा भी

हो जाएगी निराश।

लेकिन पांचों उंगली मिलकर,

जुडक़र पूरी ताकत बनकर,

थाम लें ये आकाश।

हुआ क्या मतलब इसका?

संगठन मतलब इसका!

 

हाथ में पांच ये उंगली देखो

सबकी हैं अलग दिशाएं,

देखो अंगूठे जी इधर गए तो

कन्नी जी उधर को जाएं।

लेकिन सही इशारा पाकर,

पांचों एक दिशा में आकर,

इक मुट्ठी बन जाएं।

हुआ क्या मतलब इसका?

जुगत है मतलब इसका!

 

हाथ में रेता हो,

ढीली हो मुट्ठी तो

रेता नीचे गिरेगा,

उंगली के छेदों से,

दांए से बांए से,

धीरे धीरे झरेगा।

लेकिन कसी होगी मुट्ठी बराबर,

तो रेता न आए

जरा सा भी बाहर।

मुट्ठी में ही रहेगा।

हुआ क्या मतलब इसका?

चौकसी मतलब इसका।

 

देखो अंगूठा है

छोटा सा मोटा सा

बीच की उंगली बड़ी है,

अगल की उंगली है

जरा सी छोटी

बगल की थोड़ी बड़ी है।

नन्ही सी मुन्नी सी

को भी मिलाया तो,

पांचों को आपस में

एक बनाया तो,

मुट्ठी बनके अड़ी है।

हुआ क्या मतलब इसका?

है समता मतलब इसका।

 

हाथ की पांचों उंगली इनमें

ऐसी बात भी होती,

तीन करेंगी काम मगर दो

रहेंगी सोती की सोती।

इन दोनों को सोता पाकर,

बाकी दो को हंसता पाकर,

छोटी वाली रोती।

हुआ क्या मतलब इसका?

विसंगति मतलब इसका।


Comments

comments

5 Comments

  1. Lovely poem…will use it for hindi poetry competition @ school.

    • ज़रूर संध्या! इस कविता को बच्चों के पाठ्य-क्रम में भी लगाया जा रहा है।

  2. hrichchha joshi |

    beautifull poem…sometimes i feel god has given us so many teachers in the nature but where r the lerners???

  3. Dharmendra Singh Gangwar |

    सर इस कविता को NCERT की ७ की हिंदी ब पाठ्यक्रम में शामिल कीजिये….

Leave a Reply