मुखपृष्ठ>
  • खिली बत्तीसी
  • >
  • और… और…… और………. क्या!
  • और… और…… और………. क्या!

    aur-aur-aur-kyaa

     

     

     

     

     

     

     

     

    और… और…… और………. क्या!

    (संबोधन बदल जाएं तो समझिए कि संबंध बदल गए)

     

    तुम भी

    जल थे

    हम भी

    जल थे

    इतने

    घुले-मिले थे

    कि

    एक दूसरे से

    जलते न थे।

     

    न तुम

    खल थे

    न हम

    खल थे

    इतने

    खुले-खुले थे

    कि

    एक दूसरे

    को

    खलते न थे।

    अचानक

    हम

    तुम्हें

    खलने लगे,

    और

    तुम

    हमसे

    जलने लगे।

     

    तुम

    जल से

    भाप

    हो गए,

    और

    ‘तुम’ से

    ‘आप’

    हो गए।

     

    और… और……

    और………. क्या!

     

     

    wonderful comments!

    प्रातिक्रिया दे

    Receive news updates via email from this site