हंसना बड़ा काम

हंसना बड़ा काम

जब जनता रोएगी तब क्या सिद्धू हंस पाएंगे? नकली ही सही, कुर्सी पर बैठकर उन्हें जनता के साथ रोना होगा। उन्हें रोता देख शायद मुझे सात्विक हंसी आ जाए और मेरे अदृश्य गुरु प्रसन्न हो जाएं।


Read More