पुस्तकें

इतिहास क्या है

अनुवाद

मेरी पुस्तक ‘व्हाट इज़ हिस्ट्री’ का हिन्दी में प्रकाशन मेरे लिए आनन्द और सम्मान का विषय  है। मैंने इस पुस्तक में जिन ऐतिहासिक व्यक्तित्त्वों और घटनाओं का उल्लेख किया है, वे गैर यूरोपीय की अपेक्षा यूरोपीय से अधिक परिचित हैं परंतु इस पुस्तक का मूल उद्देश्य है, इतिहास के सिद्धांतों को सामान्यता तथा व्यापकतर स्तर पर व्यवहृतर करना और उनके महत्व को रेखांकित करना।  मैंने यहां प्रतिपादित किया है कि अतीत का कोई भी सार्थक  अध्ययन निश्चित रुप से भविष्य को अंतर्दृष्टि द्वारा प्रेरित और आलोकित होगा और यह भी कि आज जबकि विश्व का प्रत्येक देश कठिन आर्थिक सामाजिक समस्याओं से जूझ रहा है1 ‘समय’ के विस्तार में मानवजाति की प्रगति की प्रक्रिया पर ही इतिहास की अवधारणा की जानी चाहिए, यह दृष्टिकोण विरोधाभास से ग्रस्त लग सकता है, मगर मेरा यह विश्वास है कि यदि हम अतीत का  गंभीर और विचारपूर्ण अध्ययन करें तो इतिहास हमें आश्वस्त कर सकता है और उसे करना भी चाहिए वह हमें भविष्य के प्रति आशान्वित कर सकता है कि हम ऐसे समय की उत्सुकता से प्रतीक्षा करें जब मानव जाति अपेक्षाकृत स्थाई समाज व्यवस्था की दिशा में नए उत्साह के साथ अपनी यात्रा के अगले पड़ाव की ओर कूच करेगी और सभ्यता के विकास में गैर यूरोपीय जन यूरोपीयों के कंधे से कंधा मिलाकर समकक्ष भूमिका निभाएंगे, वह भूमिका जिससे गत शताब्दियों में उन्हें वंचित रखा गया है1

ई. एच. कार