पुस्तकें

ए जी सुनिए

काव्य संकलन

book-ai-ji-suniye-front

अशोक जी की बहुरंगी कविताओं का एक और संकलन है ‘ए जी सुनिए’। पुस्तक के आठ खंडों के आठ शीर्षक भी मिलकर एक कविता बनाते हैं- जीवन ताल में, जंजाल में, इसलिए मलाल में, अस्पताल में, सवाल में, तरंगोत्ताल में, आकाश पाताल में और विदाकाल में। इस संकलन के रेखाचित्र श्री चन्द्र बी. रसाली ने बनाए हैं जो मूलतः एक मूर्तिकार हैं। इसलिए चित्रों में त्रिआयामी जीवंतता है।

मंडी डबवाली (हरियाणा) में हुए अग्निकाण्ड पर ‘डबवाली शिशुओं के नाम’ कविता के माध्यम से कवि ने राष्ट्रीय भावना को पुष्ट करने का प्रयास किया है। शीर्षक-कविता ‘ए जी सुनिए’ में ‘सेल’ के प्रलोभनों की कलर्ई खोली है। ‘बग्गा’ पात्र के माध्यम से संसद व विधानसभा में आए दिन होने वाली उठा-पटक का चित्रण किया है, यथा— ‘अटैंशन! बिहेव योरसैल्फ! ध्यान रखिए, पूरा देश आपको देख रहा है।’

संग्रह में हिंदी के अलावा उर्दू, संस्कृ त, अंग्रेज़ी व अन्य शब्दों का धड़ल्ले से प्रयोग किया गया है। कुछ शब्दों को ज़रूरत के अनुसार तोड़ा-मरोड़ा भी गया है। लेकिन यह तोड़ना और मरोड़ना सहज लगता है चूंकि उन व्यक्तियों के संदर्भ में है जो देश को तोड़ और मरोड़ रहे हैं। शब्दों के साथ नए-नए खिलवाड़ करना और नए शब्द-रूपों को गढ़ना अशोक जी का ख़ास अंदाज़ है जो इस संकलन की अधिकांश कविताओं में मिलता है। ये कविताएं पाठकों को गुदगुदाएंगी और साथ ही कुछ सोचने के लिए विवश भी करेंगी।

अनुक्रम

  • जीवन ताल में
  • वर्ग विभाजन
  • बात
  • इच्छा-शक्ति
  • बढ़ता हुआ बच्चा
  • आपकी नाकामयाबी
  • पोपला बच्चा
  • डबवाली शिशुओं के नाम
  • ए जी सुनिए
  • नाज़ी कहीं का
  • बग्गा का मग्गा

जंजाल में

  • जग्गू दादा की ब्याधा
  • ब्रजवासी के साम दाम दंड भेद
  • राशन वाला उवाच
  • प्यार दूसरी नज़र में
  • कागज़ों को फ़ाइलें पसंद हैं
  • संकट : हे भगवान
  • जी की राहत
  • आख़िर कब तक
  • सच्ची ख़बरें
  • आया अठ्ठानवै

इसलिए मलाल में

  • शौकत मियां के पुतले
  • नहीं मरता रावण
  • बच्चे की कामना
  • ज़िन्दा है आशा
  • हैलमेट

अस्पताल में

  • पास होने की प्रसन्नता
  • नर्स सिनसा के लिए
  • नर्स सुचित्रा के लिए
  • फ़ीस मत मांग
  • प्रोग्रैस चार्ट
  • टुट टुट टीटी वीटी टुट
  • बैड नंबर फ़ोर
  • फुहारों सी नर्सें
  • समझदार बच्चा
  • मिस्टर वर्मा
  • सवाल में
  • सालता सवाल
  • रस्ते पे आंख
  • दिन तो है दिन
  • आपके वास्ते
  • दिवाली आ रही है
  • कहीं तो मिलेगी

तरंगोत्ताल में

  • कै होली सर र र र
  • बतकही की प्यास
  • वे दिन वो बातें
  • नन्हा सा मेमना
  • वृक्ष बने शंकर
  • तालोत्सव ज़ाकिर प्लस

आकाश पाताल में

  • असली चेहरा
  • एक हवाई सफ़र में
  • जड़ें और उड़ान

और विदा काल में

  • फिर मिलेंगे दोस्तो